कुंवारी रश्मि की रेशम सी चूत चुदाई अन्तर्वासना


007

Administrator
Staff member
Joined
Aug 28, 2013
Messages
68,486
Reaction score
429
Points
113
Age
37
//gsm-signalka.ru RASHMI KI RESHAMA SI CHUT CHUDAI


हैलो दोस्तो,
भाउज.कम पर आप सभी को स्वागत हे | मेरा नाम राहुल है, रायपुर शहर का रहने वाला मैं 27 साल का जवान लड़का हूँ। देखने में गोरा, लंबा और शरीर से सामान्य हूँ। वैसे मैं बचपन से ही लड़कियों के बीच खेल कर बड़ा हुआ हूँ सो मुझे लड़कियों से बात करने में कोई झिझक महसूस नहीं होती है। भाउज.कम पर कई दिनों से कहानी पढ़रही हूँ | मुझे गन्दी कहानियां बहत पसंद हे | खास करके भाउज के सुनीता भाभी जी की कहानी |
मेरी कहानी आज से लगभग 4 साल पुरानी है।
यह कहानी मेरी पुरानी क्लासमेट रश्मि की है जो देखने में हल्का सांवले रंग की थी लेकिन बेहद सुंदर नयन-नक्श की थी। रश्मि से मेरी पहली मुलाकात हमारी ट्यूशन क्लास में हुई थी। वो अगस्त का महीना था, मेरे टीचर मुखर्जी सर के यहाँ मैं शाम के बैच में ट्यूशन पढ़ने जाया करता था, रश्मि भी शाम के बैच में पढ़ने के लिए आई।
सर ने पूछा- तुम सुबह के बैच के बजाए शाम के बैच में क्यों आई हो?
रश्मि ने बताया- सुबह घर का काम ज्यादा और स्कूल होने की वजह से अब मैं शाम को ही आ पाऊँगी।
सर ने समझाने की कोशिश की- शाम के बैच में लड़के ही रहते हैं!
पर रश्मि बोली- मैं एडजस्ट कर लूँगी, वरना मुझे ट्यूशन छोड़ना पड़ेगा।
अब सर के पास 'हाँ' कहने के अलावा कोई रास्ता न था।
रश्मि मेरे बगल में आकर बैठी, उसे देखकर मैं बहुत खुश था, उस दिन हमारी क्लास जल्दी खत्म हो गई।
क्लास से बाहर आकर रश्मि ने मुझसे पहले से बात की, उसने मुझे ठहरने के लिए बोला, फिर मेरा नाम पूछा।
मैं- राहुल.. और आप का नाम?
रश्मि- रश्मि..!
मैं- क्या आप सुबह के बैच में आती थीं?
रश्मि- हाँ.. लेकिन अब शाम को ही आ पाऊँगी।
मैं- ऐसा क्यों?
रश्मि- मम्मी की तबीयत ठीक नहीं है और घर का काम मुझे ही करना पड़ता है। इसलिए सुबह समय नहीं मिलता। क्या आप मेरी पढ़ाई में मदद कर सकते हैं?
मैं- कैसी मदद?
रश्मि- शाम के बैच की पढ़ाई के सिलेबस के बारे में।
मैं- ओके.. लेकिन कल से..!
रश्मि- ठीक है।
मैं बहुत खुश था, इतनी सुंदर लड़की मुझसे मदद चाहती है। रात भर मैं उसी के बारे में सोचता रहा।
अगले दिन मैं समय से पहले जाकर उसका इंतजार करने लगा, वो भी टाइम पर आ गई।
उसने आकर मुझे 'हाय' बोला और क्लास न जाने का कारण पूछा।
मैंने बोल दिया- मैं तुम्हारा इंतजार कर रहा था।
वो हँसी और अन्दर जाने लगी, मैं भी अन्दर चला गया।
उस दिन भी हमारी काफी बातें हुईं और मैं उसकी पढ़ाई में मदद भी करने लगा।
शाम को बारिश और अँधेरा होने के वजह से रश्मि ने मुझे आधे रास्ते तक छोड़ने के लिए बोला, मैंने हाँ कर दी और हम बातें करते-करते चल दिए।
उस दिन हम दोनों बेहद खुश थे। लेकिन किस्मत को शायद हमारी दोस्ती पसंद नहीं आई और उसने ट्यूशन छोड़ दिया।
मैंने सर से इसके बारे में बात की, तब उन्होंने बताया- उसकी मम्मी की तबीयत ज्यादा खराब हो गई, तो वे लोग उन्हें इलाज के लिए बैंगलोर ले गए हैं।
इस तरह हम एक होने से पहले अलग हो गए।
कहते हैं ऊपर वाले के घर देर है अंधेर नहीं। ऐसा ही कुछ मेरे साथ हुआ। आज से 4 साल पहले जुलाई 2010 में मैंने एक कंपनी में कंप्यूटर ऑपरेटर का जॉब ज्वाइन किया मेरा केबिन अच्छा था और एसी लगा हुआ था।
बॉस ने बताया कि मुझे कुछ दिन के लिए अपने सीनियर के साथ मार्किट में काम समझने के लिए जाना आवश्यक है जिससे मैं काम को बेहतर ढंग से समझूँ।
अगले दिन सुबह मुझे सीनियर के साथ जाना था तो मैं उनका केबिन में इन्तजार कर रहा था।
वो एक लेडी थी और सूट पहन कर आई थी, वो फुल मेकअप में सुंदर और सेक्सी लग रही थी।
जब वो पास आई तो मुझे शॉक लगा क्योंकि वो कोई और नहीं मेरी रश्मि थी। लेकिन उसने मुझे देखकर कोई ख़ुशी जाहिर नहीं की, सो मैं भी चुप रह गया। हम दोनों उनकी कार में मार्केट की ओर चले गए।
रास्ते में उसने खुद मुझसे बात की।
रश्मि- कैसे हो राहुल?
मैं- ठीक हूँ, चलो, मुझे पहचाना तो सही!
रश्मि- पहचानूँगी कैसे नहीं, अपने दोस्त को।
मैं- दोस्त कहती हो और अपने दोस्त की खबर भी नहीं ली।
रश्मि- माफ़ करना राहुल.. मुझ पर बहुत बड़ा संकट आ गया था।
मैं- खैर. जाने दो, बताओ कैसी हो तुम.. और यहाँ कैसे?
रश्मि- लंबी कहानी है फुर्सत में सुनना।
और हम दोनों मार्केट घूमे। रश्मि ने मुझे पूरा मार्केट का काम समझा दिया और शाम को अपने अपने घर आ गए।
उस रात मैं रश्मि के ही बारे में सोचता रहा।
इस तरह वो मेरी दुनिया में वापस आ गई थी और रश्मि को वापस पाकर मैं बहुत खुश था।
15 अगस्त के दिन हमारी जॉब में भी जल्दी छुट्टी मिल गई। रश्मि मेरे पास आई और मुझे अपने घर आने के लिए बोली। मैंने कुछ सोचने के बाद 'हाँ' कर दिया। फिर दोनों साथ में उसके घर चलने लगे।
वो अपने पापा के साथ कंपनी के एक घर में रहती थी घर काफी सुंदर था।
रश्मि ने बताया- पापा कुछ काम से शहर से बाहर गए हैं।
रश्मि मुझे बैठने के लिए बोल कर चाय और पानी लेने चली गई।
मैं बैठा था कि मुझे पास में रश्मि का लैपटॉप दिखा। मेरा खुरापाती दिमाग उसमें कुछ खोजने लगा। मुझे जल्द ही हॉट मूवी और फोटो दिख गई। मैं समझ गया कि यह भी सेक्स की प्यासी है।
रश्मि पानी और कुछ खाने का ले कर आई और हम बातें करने लगे।
बातों ही बातों में मैंने उसकी शादी के संबंध में पूछा, तो वो टाल गई। मेरे हाथ में लैपटॉप देखकर पूछने लगी- तुमने कुछ देखा तो नहीं?
मेरे पूछने पर- 'क्या कुछ?' वो सर नीचे करके शरमाने लगी।
मैंने भी सही समय समझ कर उसका हाथ अपने हाथ में रख लिया। वो मेरे तरफ ऐसे देख रही थी मानो वो इसका कब से इंतजार कर रही हो।
रश्मि मुझसे लिपट कर रोने लगी।
थोड़ी देर बाद वो गर्म होने लगी और मेरे पीठ में हाथ घुमाने लगी। मुझे भी मजा आने लगा। धीरे-धीरे वो अपने गाल को मेरे होंठ पर घुमाने लगी, जिससे मैं भी गर्म होने लगा। इससे पहले मेरे मन में रश्मि के बारे में कोई गलत ख्याल नहीं थे, पर पता नहीं क्यों उसे चोदने का मन करने लगा।
मैं भी अपने होंठ को उसके होंठ से चिपका दिया और दोनों एक-दूसरे को चूमने लगे।
अब धीरे-धीरे मेरा हाथ उसके मम्मों पर गया रश्मि सिहर उठी और जोर से मुझसे चिपक गई।
अब मैं भी मजे लेकर उसके मम्मों को दबाने लगा, मुझे बहुत मजा आ रहा था क्योंकि मैं अपने प्यार को ही प्यार कर रहा था।
रश्मि ने मेरे कमीज के बटन खोलने शुरु कर दिए और मैंने भी रश्मि की कुर्ती व पजामा को खोल दिया। अब वो सिर्फ ब्रा और पैन्टी में थी। बिना कपड़ों के रश्मि बहुत सुंदर लग रही थी।
उसको देख कर मेरा लंड सातवें आसमान पर पहुँच गया और रश्मि को और जोर से चूमने लगा, वो भी मेरा साथ देने लगी।
रश्मि की ब्रा खोल कर मैं उसके दूध चूसने लगा, जिससे वो सिसकारियाँ भरने लगी। थोड़ी देर में पैन्टी खोल कर मैंने चूत के भी दर्शन कर लिए।

pussy rubbing

चूत पर छोटे-छोटे बाल उगे थे मतलब कि वो अपनी चूत हमेशा साफ करती थी।
उसके चूत को किस करके मैं चूत को अपनी जीभ से चूत चोदन करना चाहता था, पर उसने मना कर दिया।
बोली- ये सब गंदा है..!
मेरे दुबारा कहने पर भी वो नहीं मानी।
रश्मि ने खुद मेरे सारे कपड़े एक-एक करके उतार दिए और मेरे लंड को देख के भूखी शेरनी की तरह उसके आँख में चमक आ गई और लंड को हाथ में ले कर ऊपर-नीचे करने लगी।
मैंने उसे मुँह में लेने के लिए कहा, लेकिन वो टाल गई।
बोली- ये सब घिनौना है!
मेरे कई बार कहने पर भी वो नहीं मानी, बोली- करना है तो ऐसे ही करो।
मैंने भी सोचा कि इस बार ऐसे ही चोद लेता हूँ, अगली बार तड़पा कर और लंड चुसवा कर ही चोदूँगा।
और मैं फिर से रश्मि के दुद्दुओं से खेलने लगा एक को मुँह में लेकर चूस रहा था तो दूसरे का निप्पल को अपनी ऊँगली से मसल रहा था।
थोड़ी देर में ही रश्मि सिसकारी भरने लगी और छटपटाने लगी।
अब उसकी चूत में ऊँगली डाल कर अन्दर-बाहर करने लगा। वो भी मेरे लंड को ऊपर-नीचे करने लगी।
थोड़ी देर में वो जोर-जोर से 'आहें' भरने लगी और लगातार 'राहुल आइ लव यू. राहुल आइ लव यू. आइ लव यू.!' कहने लगी और मेरी उंगली से ही झड़ गई।
उसकी चूत के पानी से मेरी पूरी हथेली गीली हो गई। उसकी चूत के पानी से क्या महक आ रही थी जिसे सूंघने के लिए मैं अपने हाथ को मुँह के पास लाया था कि रश्मि मेरे हाथ को हटा कर मेरे होंठ से चिपक गई।
और थोड़ी देर बाद बोली- अब पानी तो निकाल दिया. चोदोगे कब?
यह सुनकर मेरा लंड उफान लेने लगा और मैं रश्मि की चूत में अपना लंड फिट करने लगा। थोड़ी सी मशक्कत के बाद लंड अपना रास्ता बनाने लगा।
शायद रश्मि को दर्द हो रहा था इसलिए वो अपनी कमर को नचा रही थी। मैं अपने लंड को धीरे-धीरे आगे ठेल रहा था।
रश्मि बोली- पहली बार चुद रही हूँ. धीरे-धीरे डालना!
मैंने भी अपनी रश्मि के चूत का ख्याल किया और धीरे-धीरे अन्दर डालते गया।
तभी मेरे मन में ख्याल आया कि बिना दर्द के चोदने में क्या मजा, इसलिए मैंने रश्मि के मुँह में अपना मुँह रखा और चुम्बन करते हुए लंड बाहर निकाल कर जोर से लंड को बुर में ठेल दिया।
रश्मि को तेज दर्द हुआ वो चिल्लाने के लिए छटपटाने लगी। उसकी आँख से आंसू बहने लगे, लेकिन मैंने नहीं छोड़ा।
थोड़ी देर बाद वो शांत हो गई और चूतड़ उठा-उठा कर चोदने के लिए इशारा करने लगी।
मैंने भी समय की नजाकत को समझ कर लंड अन्दर-बाहर करके चोदना चालू किया।
रश्मि भी चुदाई का पूरा मजा लेने लगी। करीब 20 मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों बारी-बारी से झड़ गए।
उस दिन हम दोनों ने दो बार और चुदाई का मजा लिया। इसके बाद यह सिलसिला पूरे एक साल चला।
यह थी रश्मि की रेश्मी चूत चुदाई की दास्तान।
आपको कैसी लगी जरूर बताना।

007

Administrator
Staff member
Joined
Aug 28, 2013
Messages
68,486
Reaction score
429
Points
113
Age
37
//gsm-signalka.ru RASHMI KI RESHAMA SI CHUT CHUDAI


हैलो दोस्तो,
भाउज.कम पर आप सभी को स्वागत हे | मेरा नाम राहुल है, रायपुर शहर का रहने वाला मैं 27 साल का जवान लड़का हूँ। देखने में गोरा, लंबा और शरीर से सामान्य हूँ। वैसे मैं बचपन से ही लड़कियों के बीच खेल कर बड़ा हुआ हूँ सो मुझे लड़कियों से बात करने में कोई झिझक महसूस नहीं होती है। भाउज.कम पर कई दिनों से कहानी पढ़रही हूँ | मुझे गन्दी कहानियां बहत पसंद हे | खास करके भाउज के सुनीता भाभी जी की कहानी |
मेरी कहानी आज से लगभग 4 साल पुरानी है।
यह कहानी मेरी पुरानी क्लासमेट रश्मि की है जो देखने में हल्का सांवले रंग की थी लेकिन बेहद सुंदर नयन-नक्श की थी। रश्मि से मेरी पहली मुलाकात हमारी ट्यूशन क्लास में हुई थी। वो अगस्त का महीना था, मेरे टीचर मुखर्जी सर के यहाँ मैं शाम के बैच में ट्यूशन पढ़ने जाया करता था, रश्मि भी शाम के बैच में पढ़ने के लिए आई।
सर ने पूछा- तुम सुबह के बैच के बजाए शाम के बैच में क्यों आई हो?
रश्मि ने बताया- सुबह घर का काम ज्यादा और स्कूल होने की वजह से अब मैं शाम को ही आ पाऊँगी।
सर ने समझाने की कोशिश की- शाम के बैच में लड़के ही रहते हैं!
पर रश्मि बोली- मैं एडजस्ट कर लूँगी, वरना मुझे ट्यूशन छोड़ना पड़ेगा।
अब सर के पास 'हाँ' कहने के अलावा कोई रास्ता न था।
रश्मि मेरे बगल में आकर बैठी, उसे देखकर मैं बहुत खुश था, उस दिन हमारी क्लास जल्दी खत्म हो गई।
क्लास से बाहर आकर रश्मि ने मुझसे पहले से बात की, उसने मुझे ठहरने के लिए बोला, फिर मेरा नाम पूछा।
मैं- राहुल.. और आप का नाम?
रश्मि- रश्मि..!
मैं- क्या आप सुबह के बैच में आती थीं?
रश्मि- हाँ.. लेकिन अब शाम को ही आ पाऊँगी।
मैं- ऐसा क्यों?
रश्मि- मम्मी की तबीयत ठीक नहीं है और घर का काम मुझे ही करना पड़ता है। इसलिए सुबह समय नहीं मिलता। क्या आप मेरी पढ़ाई में मदद कर सकते हैं?
मैं- कैसी मदद?
रश्मि- शाम के बैच की पढ़ाई के सिलेबस के बारे में।
मैं- ओके.. लेकिन कल से..!
रश्मि- ठीक है।
मैं बहुत खुश था, इतनी सुंदर लड़की मुझसे मदद चाहती है। रात भर मैं उसी के बारे में सोचता रहा।
अगले दिन मैं समय से पहले जाकर उसका इंतजार करने लगा, वो भी टाइम पर आ गई।
उसने आकर मुझे 'हाय' बोला और क्लास न जाने का कारण पूछा।
मैंने बोल दिया- मैं तुम्हारा इंतजार कर रहा था।
वो हँसी और अन्दर जाने लगी, मैं भी अन्दर चला गया।
उस दिन भी हमारी काफी बातें हुईं और मैं उसकी पढ़ाई में मदद भी करने लगा।
शाम को बारिश और अँधेरा होने के वजह से रश्मि ने मुझे आधे रास्ते तक छोड़ने के लिए बोला, मैंने हाँ कर दी और हम बातें करते-करते चल दिए।
उस दिन हम दोनों बेहद खुश थे। लेकिन किस्मत को शायद हमारी दोस्ती पसंद नहीं आई और उसने ट्यूशन छोड़ दिया।
मैंने सर से इसके बारे में बात की, तब उन्होंने बताया- उसकी मम्मी की तबीयत ज्यादा खराब हो गई, तो वे लोग उन्हें इलाज के लिए बैंगलोर ले गए हैं।
इस तरह हम एक होने से पहले अलग हो गए।
कहते हैं ऊपर वाले के घर देर है अंधेर नहीं। ऐसा ही कुछ मेरे साथ हुआ। आज से 4 साल पहले जुलाई 2010 में मैंने एक कंपनी में कंप्यूटर ऑपरेटर का जॉब ज्वाइन किया मेरा केबिन अच्छा था और एसी लगा हुआ था।
बॉस ने बताया कि मुझे कुछ दिन के लिए अपने सीनियर के साथ मार्किट में काम समझने के लिए जाना आवश्यक है जिससे मैं काम को बेहतर ढंग से समझूँ।
अगले दिन सुबह मुझे सीनियर के साथ जाना था तो मैं उनका केबिन में इन्तजार कर रहा था।
वो एक लेडी थी और सूट पहन कर आई थी, वो फुल मेकअप में सुंदर और सेक्सी लग रही थी।
जब वो पास आई तो मुझे शॉक लगा क्योंकि वो कोई और नहीं मेरी रश्मि थी। लेकिन उसने मुझे देखकर कोई ख़ुशी जाहिर नहीं की, सो मैं भी चुप रह गया। हम दोनों उनकी कार में मार्केट की ओर चले गए।
रास्ते में उसने खुद मुझसे बात की।
रश्मि- कैसे हो राहुल?
मैं- ठीक हूँ, चलो, मुझे पहचाना तो सही!
रश्मि- पहचानूँगी कैसे नहीं, अपने दोस्त को।
मैं- दोस्त कहती हो और अपने दोस्त की खबर भी नहीं ली।
रश्मि- माफ़ करना राहुल.. मुझ पर बहुत बड़ा संकट आ गया था।
मैं- खैर. जाने दो, बताओ कैसी हो तुम.. और यहाँ कैसे?
रश्मि- लंबी कहानी है फुर्सत में सुनना।
और हम दोनों मार्केट घूमे। रश्मि ने मुझे पूरा मार्केट का काम समझा दिया और शाम को अपने अपने घर आ गए।
उस रात मैं रश्मि के ही बारे में सोचता रहा।
इस तरह वो मेरी दुनिया में वापस आ गई थी और रश्मि को वापस पाकर मैं बहुत खुश था।
15 अगस्त के दिन हमारी जॉब में भी जल्दी छुट्टी मिल गई। रश्मि मेरे पास आई और मुझे अपने घर आने के लिए बोली। मैंने कुछ सोचने के बाद 'हाँ' कर दिया। फिर दोनों साथ में उसके घर चलने लगे।
वो अपने पापा के साथ कंपनी के एक घर में रहती थी घर काफी सुंदर था।
रश्मि ने बताया- पापा कुछ काम से शहर से बाहर गए हैं।
रश्मि मुझे बैठने के लिए बोल कर चाय और पानी लेने चली गई।
मैं बैठा था कि मुझे पास में रश्मि का लैपटॉप दिखा। मेरा खुरापाती दिमाग उसमें कुछ खोजने लगा। मुझे जल्द ही हॉट मूवी और फोटो दिख गई। मैं समझ गया कि यह भी सेक्स की प्यासी है।
रश्मि पानी और कुछ खाने का ले कर आई और हम बातें करने लगे।
बातों ही बातों में मैंने उसकी शादी के संबंध में पूछा, तो वो टाल गई। मेरे हाथ में लैपटॉप देखकर पूछने लगी- तुमने कुछ देखा तो नहीं?
मेरे पूछने पर- 'क्या कुछ?' वो सर नीचे करके शरमाने लगी।
मैंने भी सही समय समझ कर उसका हाथ अपने हाथ में रख लिया। वो मेरे तरफ ऐसे देख रही थी मानो वो इसका कब से इंतजार कर रही हो।
रश्मि मुझसे लिपट कर रोने लगी।
थोड़ी देर बाद वो गर्म होने लगी और मेरे पीठ में हाथ घुमाने लगी। मुझे भी मजा आने लगा। धीरे-धीरे वो अपने गाल को मेरे होंठ पर घुमाने लगी, जिससे मैं भी गर्म होने लगा। इससे पहले मेरे मन में रश्मि के बारे में कोई गलत ख्याल नहीं थे, पर पता नहीं क्यों उसे चोदने का मन करने लगा।
मैं भी अपने होंठ को उसके होंठ से चिपका दिया और दोनों एक-दूसरे को चूमने लगे।
अब धीरे-धीरे मेरा हाथ उसके मम्मों पर गया रश्मि सिहर उठी और जोर से मुझसे चिपक गई।
अब मैं भी मजे लेकर उसके मम्मों को दबाने लगा, मुझे बहुत मजा आ रहा था क्योंकि मैं अपने प्यार को ही प्यार कर रहा था।
रश्मि ने मेरे कमीज के बटन खोलने शुरु कर दिए और मैंने भी रश्मि की कुर्ती व पजामा को खोल दिया। अब वो सिर्फ ब्रा और पैन्टी में थी। बिना कपड़ों के रश्मि बहुत सुंदर लग रही थी।
उसको देख कर मेरा लंड सातवें आसमान पर पहुँच गया और रश्मि को और जोर से चूमने लगा, वो भी मेरा साथ देने लगी।
रश्मि की ब्रा खोल कर मैं उसके दूध चूसने लगा, जिससे वो सिसकारियाँ भरने लगी। थोड़ी देर में पैन्टी खोल कर मैंने चूत के भी दर्शन कर लिए।

pussy rubbing

चूत पर छोटे-छोटे बाल उगे थे मतलब कि वो अपनी चूत हमेशा साफ करती थी।
उसके चूत को किस करके मैं चूत को अपनी जीभ से चूत चोदन करना चाहता था, पर उसने मना कर दिया।
बोली- ये सब गंदा है..!
मेरे दुबारा कहने पर भी वो नहीं मानी।
रश्मि ने खुद मेरे सारे कपड़े एक-एक करके उतार दिए और मेरे लंड को देख के भूखी शेरनी की तरह उसके आँख में चमक आ गई और लंड को हाथ में ले कर ऊपर-नीचे करने लगी।
मैंने उसे मुँह में लेने के लिए कहा, लेकिन वो टाल गई।
बोली- ये सब घिनौना है!
मेरे कई बार कहने पर भी वो नहीं मानी, बोली- करना है तो ऐसे ही करो।
मैंने भी सोचा कि इस बार ऐसे ही चोद लेता हूँ, अगली बार तड़पा कर और लंड चुसवा कर ही चोदूँगा।
और मैं फिर से रश्मि के दुद्दुओं से खेलने लगा एक को मुँह में लेकर चूस रहा था तो दूसरे का निप्पल को अपनी ऊँगली से मसल रहा था।
थोड़ी देर में ही रश्मि सिसकारी भरने लगी और छटपटाने लगी।
अब उसकी चूत में ऊँगली डाल कर अन्दर-बाहर करने लगा। वो भी मेरे लंड को ऊपर-नीचे करने लगी।
थोड़ी देर में वो जोर-जोर से 'आहें' भरने लगी और लगातार 'राहुल आइ लव यू. राहुल आइ लव यू. आइ लव यू.!' कहने लगी और मेरी उंगली से ही झड़ गई।
उसकी चूत के पानी से मेरी पूरी हथेली गीली हो गई। उसकी चूत के पानी से क्या महक आ रही थी जिसे सूंघने के लिए मैं अपने हाथ को मुँह के पास लाया था कि रश्मि मेरे हाथ को हटा कर मेरे होंठ से चिपक गई।
और थोड़ी देर बाद बोली- अब पानी तो निकाल दिया. चोदोगे कब?
यह सुनकर मेरा लंड उफान लेने लगा और मैं रश्मि की चूत में अपना लंड फिट करने लगा। थोड़ी सी मशक्कत के बाद लंड अपना रास्ता बनाने लगा।
शायद रश्मि को दर्द हो रहा था इसलिए वो अपनी कमर को नचा रही थी। मैं अपने लंड को धीरे-धीरे आगे ठेल रहा था।
रश्मि बोली- पहली बार चुद रही हूँ. धीरे-धीरे डालना!
मैंने भी अपनी रश्मि के चूत का ख्याल किया और धीरे-धीरे अन्दर डालते गया।
तभी मेरे मन में ख्याल आया कि बिना दर्द के चोदने में क्या मजा, इसलिए मैंने रश्मि के मुँह में अपना मुँह रखा और चुम्बन करते हुए लंड बाहर निकाल कर जोर से लंड को बुर में ठेल दिया।
रश्मि को तेज दर्द हुआ वो चिल्लाने के लिए छटपटाने लगी। उसकी आँख से आंसू बहने लगे, लेकिन मैंने नहीं छोड़ा।
थोड़ी देर बाद वो शांत हो गई और चूतड़ उठा-उठा कर चोदने के लिए इशारा करने लगी।
मैंने भी समय की नजाकत को समझ कर लंड अन्दर-बाहर करके चोदना चालू किया।
रश्मि भी चुदाई का पूरा मजा लेने लगी। करीब 20 मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों बारी-बारी से झड़ गए।
उस दिन हम दोनों ने दो बार और चुदाई का मजा लिया। इसके बाद यह सिलसिला पूरे एक साल चला।
यह थी रश्मि की रेश्मी चूत चुदाई की दास्तान।
आपको कैसी लगी जरूर बताना।

Users Who Are Viewing This Thread (Users: 0, Guests: 0)


Online porn video at mobile phone


நிரு காமகதைஅசைவ நகைச்சுவைbur chodna tel daalkerதமிழ் படங்களுடன் காமவெறி கதைகள்ससुराल में भाई का लण्ढचुंचियाँtamil kutikututha kanavanఅక్క savithababi pdfমার পেটে নিজের ছেলে বাচ্চা sexs movieநல்ல வேகமா ஒல்லு வெளி நாட்டு காம கதை அக்கா தம்பி ஒத்த கதைমাল আৰু যোনিவாய்ல ஓக்கఅత్తపూకు దెంగిআহ ভালো লাগছে xxx video বাংলায় কথা বলাதங்கச்சி புண்டைsex chedamaநண்பனின் குடிகார மாமா 6 gay sex avar vanthathum चोदाआ वाला विडीयो क्यो चल रहा हैஅக்கா தம்பி புன்டை चुत लडंSex story biwi ne kaam banwayawww.marathi bhasha mulichi bra panty sex stories.comமைத்துனரின் மனைவி கமாகதைகள்ಕನ್ನಡ ಲೈಂಗಿಕ ಕಥೆಗಳುமுடங்கிய கணவருடன் சுவாதியின் வாழ்க்கை pdfஅவர் ஓக்க என் புருஷன்കുണ്ടിയിലേക്ക് പതുക്കെবড় বাড়া দিয়ে নিশিকে চুদাউপুড় করে খামচে ধরে চোদమామా కోడలి దెంగులాటआंटीला ठोकलेश्रुति चुद गयीஅப்பாவி காம வெறி கதைகள்বড় বাড়া দিয়ে নিশিকে চুদা10 ഇഞ്ച് വരുന്ന കിടിലൻ കുണ്ണ"ఎదిగిన" కొడుకుకు "లెగిసింది" full storyகுடும்ப லெஸ்பியன் காமகதைகள்Ma Bhauja bada dudha ki kamudi khaila sex videoபொண்டாட்டி ஹனிமூன் புண்டைপাতানো বোনকে চুদার গল্পஎட்டு இன்ச் பூல்கதவ சாத்தி xossipடிச்சர்களை ஒத்தகதைகள்അമ്മച്ചി xxxvontik gutei raati sudiluমা মেয়ে কি একসাথে চুদার গল্পಅಮ್ಮನ ತುಲ್ಲಿಗೆ ಅಪ್ಪನ ತುಣ್ಣೆமுடங்கிய கணவருடன் சுவாதியின் வாழ்க்கைmob മലയാളം ഫാമിലി insent ആന്റി സ്റ്റോറീസ്बडे बडे लड से चुदवा कर अ रही हुഅമ്മൂമ്മയുടെ കൊതംचुंचियाँதிரும்புடி காமwo jadne wala tha sex storiesकाळ्या पुच्चीची झवाझवी कथाSchool girlsna ಕಾಮ ಕಥೆಗಳುతెలుగు సెక్స్ కథలుबहन की सलवार फटीதங்கச்சி ஊம்புடிমায়ের দুস্টুমী চোদন কাহিনি চটিmausanka banda bou biare odia porn stories காமத்தால்.திளைக்கும்.மனம்.புண்டைக்கதைகள்mamiyarkuinbamUth bhi nahi paa rahi thi with gandwww.chudaikieicha.comWWW.போலீஸ் காரர்களின் காம கதை.காம்Tamil sex அம்மா பாவடை poundi sexbegani sadi me bahen ki chudayi hindi sex storiesअभिसेक कि बिबिஎன் மனைவியை என் முதலாளியும் அவரின் நண்பர்களும் கற்பழித்த கதைchudaikahaniassameseஎன் கணவனின் சம்மதத்துடன் என்னை கர்ப்பம் ஆக்கிய மாணவர்கள -15அண்ணண் தங்கை கள்ளஒல் கதைpidikkuka malayalam xxxடீச்சர் கூதிதமிழ் இன்செஸ்ட் கதைகள் பாகம்இரு சுண்ணி ஒரு புண்டையுடன் செக்ஸ் கதைతెలుగు ఆటి సెక్సుকলির বাবা চতি গল্পবাংলা চটি গল্প 2018 december বড় গোসল করিয়ে দিলো তখন চুদলামഅങ്കിള്‍ kambi kathakalமாமியாரின் சந்தில்ನನ್ನ ಅಮ್ಮ ಸೂಳೆ ಆದಾಗsuda.chadi.suwali.sex